मोदी के हाथों में सुरक्षित है भारत – ज्योतिरादित्य सिंधिया


 ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा में शामिल होने के बाद मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार की एक तरह से उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है। वजह यह है कि सिंधिया खेमे के 22 विधायकों ने विधानसभा सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। स्पीकर को अभी इस पर फैसला लेना है। हालांकि, कांग्रेस का दावा है कि उसके पास बहुमत के लिए जरूरी आंकड़ा है और वह सदन में फ्लोर टेस्ट जरूर जीतेगी। कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह ने बुधवार को दावा किया कि 22 बागी कांग्रेस विधायकों में से 13 पार्टी नहीं छोड़ना चाहते हैं। मध्य प्रदेश का सियासी ड्रामा आने वाले दिनों में और तेज होने वाला है.यद्द्पि कांग्रेस की कमलनाथ सरकार अभी भी दावे किये जा रही है कि उनकी सरकार को कोई खतरा नही है लेकिन ज्योतिरादित्य के तेवर बता रहे हैं कि बदलाव हो चुका है.

LEAVE A COMMENT

To be published, comments must be reviewed by the administrator.*



    देशातील सर्वात स्वस्त इलेक्ट्रिक कार झाली लाँच : टाटा टियागो EV अवघ्या 8.49 लाखांपासून; एका चार्जवर 315 किमी वेदांत – फॉक्सकॉन सेमी कंडक्टर प्रकल्पाचे सर्वेसर्वा अनिल अग्रवाल यांचे महत्वाचे मुद्दे वनडे फॉरमॅटमधून ऑस्ट्रेलियन क्रिकेटर ॲरॉन फिंचची निवृत्ती