Shiv Sena Arvind Sawant now Supporting farmers Protest, Once welcomed Farm Bills In Loksabha

शिवसेनेची दुटप्पी भूमिका, शेतकरी आंदोलना पाठिंबा देणाऱ्या अरविंद सावंतांनी तेव्हा केले होते कृषी कायद्याचे स्वागत

कृषी कायद्यांवरून मागच्या दोन महिन्यांपासून पेटलेल्या शेतकरी आंदोलनाला शिवसेनेने पाठिंबा दर्शवला आहे. दिल्लीत शिवसेनेचे नेते संजय राऊत व अरविंद सावंत यांनी शेतकरी नेत्यांसमवेत फोटोसेशनही केले. परंतु जेव्हा कृषी कायद्यांवर संसदेत चर्चा सुरू होती, तेव्हा शिवसेनेनेच कृषी कायद्यांचे स्वागत करून मोदी सरकारच्या या पुढाकाराला पाठिंबा दर्शवला होता. Shiv Sena Arvind Sawant now Supporting farmers Protest, Once welcomed Farm Bills In Loksabha


विशेष प्रतिनिधी

नवी दिल्ली : कृषी कायद्यांवरून मागच्या दोन महिन्यांपासून पेटलेल्या शेतकरी आंदोलनाला शिवसेनेने पाठिंबा दर्शवला आहे. दिल्लीत शिवसेनेचे नेते संजय राऊत व अरविंद सावंत यांनी शेतकरी नेत्यांसमवेत फोटोसेशनही केले. परंतु जेव्हा कृषी कायद्यांवर संसदेत चर्चा सुरू होती, तेव्हा शिवसेनेनेच कृषी कायद्यांचे स्वागत करून मोदी सरकारच्या या पुढाकाराला पाठिंबा दर्शवला होता.

कृषी कायद्यांवर शिवसेनेच्या अरविंद सावंत यांनी 17 सप्टेंबर 2020 रोजी लोकसभेत दिलेल्या भाषणाचे हे मुद्दे पाहिले तर शिवसेनेची दुटप्पी भूमिका लक्षात येईल.

अरविंद सावंत यांचे 17/09/2020चे भाषण जसेच्या तसे येथे देत आहोत….

सभापति महोदय, कृषक उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सरलीकरण) विधेयक पर यहां मैं अपने विचार प्रकट कर रहा हूं ।
सभापति महोदय, मुझे याद आता है कि वर्ष 2014 में जब मैं सांसद था, उस समय मैं एनडीए में था और उस वक्त मैंने बोला था – ‘दु:ख भरे दिन बीते रे भैया, अब सुख आयो रे।’ लेकिन, वह आया नहीं । हम सपने देखते रहे। एक बात माननी पड़ेगी कि इस विषय पर सरकार भी थोड़ी गंभीर रही और इस गंभीरता का ही आज यह इलाज वे सामने लाए हैं, ऐसा मैं समझता हूं । इस विधेयक का स्वागत करते समय मेरे मन में कुछ शंकाएं हैं, मैं वह भी प्रकट करूंगा । लेकिन, एक बात मन में आती है कि हमारा उद्देश्य है कि किसी भी हालत में किसान समृद्ध हो और अभी हमारे भारतीय जनता पार्टी के सहयोगी सदस्य भी यह बात बोल रहे थे । यह बात सही है कि जब तक किसान समृद्ध नहीं होगा, देश समृद्ध नहीं होगा ।

तोमर साहब, मैं आपका स्वागत करता हूं कि इस विषय को लेकर आप आगे बढ़ रहे हैं और कृषकों को आप खुले बाजार में लाने की कोशिश कर रहे हैं ।

महाराष्ट्र की सरकार ने इस बार एक अच्छा निर्णय लिया । उन्होंने कहा कि पहले क्या होता था? मराठीत ते म्हणाले – विकेल ते पिकेल । इसका मतलब कि जो उत्पाद आएगा, उसे हम बेचने की कोशिश करेंगे । अब उन्होंने उलटा कहा । उन्होंने कहा कि जो बिकेगा, वही पकेगा । उसी का उत्पादन करेंगे, ताकि किसानों को पैसे मिलें, वे समृद्ध हों । महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री आदरणीय उद्धव जी ठाकरे साहब यह योजना अभी लाए हैं ।

राकेश टिकैत यांना भेटायला गेल्यानंतर खासदार अरविंद सावंत यांना जवळपास धक्काबुक्कीच झाली…


जो गरीब किसान है, ढ़ाई एकड़ तथा पाँच एकड़ वाला किसान है, वह अब मरने वाला है । उसको कुछ नहीं मिलने वाला है । एपीएमसी भी उसको कुछ आधार नहीं देती थी, हो सकता कि वह किसान को थोड़ा-बहुत आधार देती होगी । यहाँ आधार मिलने की संभावना है ।

इस बहस में, हम लोग जो एग्रीमेंट करने जा रहे हैं, मेरा उस पर कहना है । आपने शुरू में क्यों सोचा? उत्पादकता डेढ़ गुना करेंगे और उत्पादन दोगुना करेंगे, यह हमारी घोषणा है, यह हमारा उद्देश्य है । उसको लेकर हमने यह भी कहा था कि स्वामीनाथन कमेटी की सिफारिशों पर अमल करने की कोशिश करेंगे । वर्ष 2022 तक हमारे किसानों का उत्पादन दोगुना होना चाहिए ।

माननीय मंत्री जी, मैं आपसे पूछना चाहता हूँ कि आप जरा सदन को बताइए, जब हम ई-नाम लिये थे तो लोगों ने उस पर भी विश्वास जताया है । लोगों ने ई-नाम पर भी रजिस्ट्रेशन करवाई है । लोगों ने अपना उत्पादन वहाँ बेचा है । वह भी विश्वास दिला सकता है कि जब हम ई-नाम लाये तो उस पर लोगों ने रजिस्ट्रेशन करवाया और अपना माल बेचा ।
अरविंद सावंत, खासदार, शिवसेना



Shiv Sena Arvind Sawant now Supporting farmers Protest, Once welcomed Farm Bills In Loksabha

आता शिवसेनेचे हे वरचे भाषण पाहा आणि कालचे संजय राऊत आणि अरविंद सावंतांचे फोटोसेशन पाहा. कृषी कायद्यांचे स्वागत करणाऱ्या शिवसेनेने भूमिका का बदलली, तर फक्त आणि फक्त मोदींना विरोध म्हणून, हे लक्षात येईल. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे यांच्या आदेशानंतर मंगळवारी खासदार संजय राऊत आणि अरविंद सावंत यांनी दिल्लीत जाऊन शेतकरी आंदोलकांसोबत फोटो काढले आणि माध्यमांसमोर मोदी अहंकारी असल्याची बाइट देऊन निघून गेले.

Shiv Sena Arvind Sawant now Supporting farmers Protest, Once welcomed Farm Bills In Loksabha

    Leave Your Comment

    Your email address will not be published.*