सत्ता से हटने की बौखलाहट अपनी चरम पर, पाकिस्तान में जाकर थरूर ने की भारत की बदनामी

  • लाहौर थिंक फेस्ट में कहा, भारत में मुसलमानों के खिलाफ भेदभाव

विशेष प्रतिनिधी

नई दिल्ली : कांग्रेस नेता सत्ता के गलियारोंसे दोबारा हटने बाद पूरी तरह बौखला गये है. वह मोदी सरकार को घेरने की फिराक में देश की बदनामी करने लगते है, वह भी शत्रू देश में जाकर. काँग्रेस सांसद शशि थरूर ने देश के दुश्मन के सामने देश को बदनाम करने वाला बयान दिया है, जिसे लेकर विवाद खड़ा हो गया है. शशि थरूर ने पाकिस्तान के मंच पर कहा है कि भारत में मुसलमानों और उत्तर पूर्व के लोगों के साथ भेदभाव होता है.

लाहौर थिंक फेस्ट नाम के कार्यक्रम में शशि थरूर ऑनलाइन जुड़े थे और इसी कार्यक्रम के दौरान उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान भेदभाव बढ़ा है. उन्होंने दिल्ली में हुई तब्लीगी जमात की बैठक का जिक्र करते हुए कहा कि इस घटना का इस्तेमाल भारत में मुसलमानों के खिलाफ भेदभाव को सही ठहराने के लिए किया गया.

आखिर ऐसा क्या बोले शशि थरूर?

शशि थरूर ने कहा, ”एक दूसरे से डर का माहौल बनाया जाता है. मुझे नहीं पता कि आप लोगों में से कितनों ने वो व्हाट्सएप वीडियो देखे हैं जिनमें चीनी लोगों या उनके जैसे दिखने वाले लोगों के साथ पश्चिमी देशों जगह जगह जैसे सुपर मार्केट, रेस्टोरेंट में भेदभाव होता है सिर्फ इसलिए कि वो चीनी लोगों जैसे दिखते हैं.”

शशि थरूर ने आगे कहा, ”भारत में हम यही समस्या उत्तर पूर्व के लोगों के साथ देखते हैं क्योंकि वो अलग दिखते हैं. इस तरह के भेदभाव के खिलाफ हम भारत में लड़ाई लड़ रहे हैं”

उन्होंने कहा, ”ये भेदभाव कोरोना महामारी के दौरान भी देखा गया. जब तब्लीगी जमात का मुद्दा उठा. पहले लॉकडाउन से ठीक पहले तब्लीगी जमात के लोग जमा हुए थे और ये लोग जब अपने राज्यों में लौटे तो कोरोना का संक्रमण बढ़ा. इस घटना को भारत के मुसलमानों के खिलाफ भेदभाव को सही ठहराने के लिए इस्तेमाल किया गया.”

ये है उनके कुछ विवादित बयान

  • जुलाई 2018 – 2019 में मोदी के दोबारा सत्ता में आने पर देश ‘हिंदू पाकिस्तान’ बन जाएगा
  • 16 अक्टूबर 2018 – अच्छा हिंदू नहीं चाहेगा कि मस्जिद का ढांचा गिराकर राम मंदिर बने
  • 28 अक्टूबर 2018 – पीएम मोदी शिवलिंग पर बैठे बिच्छू की तरह हैं, जिसे न तो हाथ से हटाया जा सकता है और न चप्पल से मारा जा सकता है
  • 29 जनवरी 2019 – सीएम योगी की प्रयागराज में कैबिनेट बैठक पर – गंगा भी स्वच्छ रखनी है और पाप भी यहीं धोने हैं. इस संगम में सब नंगे हैं. जय गंगा मैया की
  • 31 जनवरी 2019 – हिंदी, हिंदू, हिंदुत्व की विचारधारा देश को बांट रही है. हमें एकता की जरुरत है ना कि समानता की.

कौन हैं शशि थरूर?

शशि थरूर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता, साहित्यकार और पूर्व राजनयिक हैं. वह केरल के तिरुवनंतपुरम से लगतार तीसरी बार सांसद चुने गए हैं. 2009 में पहली बार तिरुवनंतपुरम से लोकसभा पहुंचे थे. उन्होने डीयू के सेंट स्टीफेंस कॉलेज के बाद अमेरिका के टफ्ट यूनिवर्सिटी से पढ़ाई की है.

थरूर संयुक्त राष्ट्र संघ के उप महासचिव थे, वे साल 2006 में संयुक्त राष्ट्र के महासचिव का चुनाव लड़ चुके हैं. मई 2009 से अप्रैल 2010 तक यूपीए-2 में विदेश राज्यमंत्री रहे. अक्टूबर 2012 से 2014 तक केंद्रीय शिक्षा राज्यमंत्री रहे

    Leave Your Comment

    Your email address will not be published.*