ममता के गुंडा-राज पर बंगाल के राज्यपाल ने दी आखिरी चेतावनी

विशेष संवाददाता

नई दिल्ली: बंगाल में एक के बाद एक राजनीतिक हत्याओँ और हिंसा के मामले के बीच राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को पत्र भेज कर चेताया है। धनखड़ ने ममता को संविधान की शपथ याद करने को कहा है। उन्होंने बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से राज्य में संविधान के तहत कानून व्यवस्था स्थापित करने और लोकतंत्रित वातावरण को स्थापित करने को कहा है। राज्यपाल की ये चेतावनी पुलिस हिरासत में हुई एक बीजेपी कार्यकर्ता की संदिग्ध मौत के बाद आई है।

गौरतलब है कि राज्य के पूर्वी मिदनापुर जिले में बीजेपी के स्थानीय कार्यकर्ता मदन घोराई को टीएमसी कार्यकर्ताओँ के इशारे पर पुलिस ने हिरासत में लिया था जहां उसकी मौत हो गई। पीड़ित परिवार का आरोप है कि पुलिस ने टीएमसी के इशारे पर टॉर्चर कर मदन की हत्या की है। इसके बाद पूरे राज्य में तनाव बढ़ा हुआ है और बीजेपी ने पूरे मामले में आरोपी टीएमसी के नेताओँ की गिरफ्तारी की मांग की है।

राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने राज्य के अलग अलग कोनों से आ रही राजनीतिक हिंसा के बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को पत्र लिखा और कहा कि, राजनीतिक प्रतिद्विंदियों को पुलिस हिरासत में टॉर्चर करने की ये पहली घटना नहीं है। इससे न सिर्फ पश्चिम बंगाल, बल्कि दूसरे राज्यों के लोग भी नाराज हैं। उन्होंने याद दिलाया कि कैसे अक्टूबर 8, 2020 को एक सिख बलविंदर सिंह के साथ पश्चिम बंगाल पुलिस ने ज़्यादती की, जिसके बाद उनकी पगड़ी खुल गई और ये पूरे देश में आक्रोश का विषय बना। उन्होंने राज्य में लगातार हो रहे मानवाधिकार उल्लंघनों के लिए सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि इन सबके बावजूद किसी भी पुलिस अधिकारी पर कार्रवाई नहीं की गई।

उन्होंने कहा कि उनके द्वारा कई बार चेताने और सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के बावजूद राज्य में जिस तरह से राजनीतिक बदले की भावना से मानवाधिकार उल्लंघन हो रहा है, क़ानून के राज के अनुरूप नहीं है। उन्होंने याद दिलाया कि सालों पहले सुप्रीम कोर्ट ने कस्टडी के लिए कुछ नियम-क़ानून तय किए थे। उन्होंने कहा कि सबसे ज्यादा राजनीतिक दुर्भावना से हो रही ऐसी वारदातों के कारण लोकतंत्र का मजाक बन कर रह गया है।

राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से कहा कि वो अपनी शपथ को याद करें और जल्द क़ानून का राज स्थापित करें। उन्होंने कहा कि राजनीतिक दुर्भावना से विपक्षियों के खिलाफ षड्यंत्र करने की भी कई बातें सामने आ रही हैं। राज्यपाल ने कहा कि उन्होंने डीजीपी से भी ये बात कही लेकिन मुख्यमंत्री उनके बचाव में खड़ी हो गईं। अब उन्होंने सीधे सीएम को पत्र लिखा है।

इससे पहले शनिवार को एक राष्ट्रीय चैनल पर गृह मंत्री अमित शाह ने भी बंगाल की स्थिती को भयानक करार दिया है। शाह ने कहा था कि बंगाल की स्थिती केरल से भी बुरी हो गई है। उन्होंने कहा था कि एक वक्त था जब राजनीतिक हत्या और हिंसा के लिए केरल पूरे देश में पहचाना जाता था, लेकिन अब बंगाल ने ये स्थान ले लिया है।

    Leave Your Comment

    Your email address will not be published.*